narayani

Kuch anubhav... Kuch vichar...

40 Posts

13533 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4337 postid : 40

क्रिकेट देख्यो

Posted On: 30 Mar, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अभी म्हारा सामे टी.वि .चालू हे
उसमे क्रिकेट को खेल भी चालू हे
मेहमान भी बता दिखे हे
मेजबान भी बता दिखे हे
पर ये कई होग्यो
जी क्यों ऊँचो निचो होवे
कई होगा ,कई होगा
इत्ती धड़कन तो पेली बार
माँ बने उके भी न होवे
असी धड़कन तो भूकम्प में नि हुई हो आ क्रिकेट तो
लोग ने कई दिवानो कर रखियो हे
जितवा की बधाई लो
सबने बधाई क्रिकेट की जित की

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

5 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

kabir के द्वारा
May 23, 2011

नारायनीजी Really nice poem. Expression of the present reality.

    narayani के द्वारा
    May 24, 2011

    नमस्कार कबीर जी आपको रचना पसंद आई ,आपका आभार धन्यवाद नारायणी

    Kaylan के द्वारा
    July 11, 2016

    Please keep thirnowg these posts up they help tons.

Harish Bhatt के द्वारा
April 9, 2011

narayani ji नमस्ते, बहुत सही कविता लिखी है आपने, हार्दिक बधाई.

    narayani के द्वारा
    May 24, 2011

    नमस्कार हरीश जी आपने रचना को सराहा ,आपका आभार धन्यवाद नारायणी


topic of the week



latest from jagran