narayani

Kuch anubhav... Kuch vichar...

40 Posts

13533 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4337 postid : 134

माँ के लिए लिखना आसान नही

Posted On: 12 May, 2012 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

529881_324288424293250_243231502398943_818934_1333262658_n[1] A mother (97 years old), feeding and taking care of her paralysed son (60 years old) everyday for more than 19 years . This is happening in China.

Be Grateful for Our Beloved Parents, Thank You for Your Unconditional Love and Care since we were born. We Love You Always. :)

माँ के लिए लिखना आसान नही

माँ के लिए क्या लिखू, समझ नही आता

जिसने मुझे लिखा ,उस पर लिखा नही जाता

जो भी जीव रूप है ,उनका है माँ से नाता

माँ बिन कोई जीव ,जीवन नही पाता

तडपती है माँ संतान हेतु ,उतना कोई दूजा तड़प नही पाता

जनक और संतान की सेतु है, माता

हर रूप में छबी श्रेष्ठ ,हर रूप उसका भाता

गरमी में प्यार उसका शीतल बयार बन आता

सर्दी में माँ का गर्म ,आंचल है लुभाता

बारिश में वही आंचल ,भीगा बदन सुखाता

भूखी है वो निवाला सन्तान के मुख में जाता

संतान का कष्ट मन्दिर में, माँ का माथा रगड़ आता

मन उदास हो तो माँ का स्पर्श ही सहज कर जाता

ख़ुशी मिले बच्चो को छोटी सी,माँ का तन डोल जाता

बच्चो के मन में मंथन ,माँ को ही समझ आता

जीवन में कभी माँ का कर्ज हमसे उतर नही पाता

क्या लिखू माँ पर कुछ समझ नही आता

नारायणी



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1375 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran